Sad Whatsapp Status in Hindi || New whatsapp Status

By | 28/11/2018

Sad Whatsapp Status in Hindi

 

तड़पने KA अंदाज़ जिसे आता हो, बेशक मोहब्बत करने KA हक़ सिर्फ उसी KO है


तू KOI नया सितम सोच, ज़ख्मों को AB नमक रास AA गया है


ISHQ का सफर खत्म ही समझिए ,UNKE बातों से AB जुदाई की महक AANE लगी है


HUM करते रहे मोहब्बत KI बातें और UNKO मतलब की बातों से फुर्सत NHi थी


JAAn.. तो उस वक़्त निकलती है जब APNA प्यार किसी और का जिक्र APNI बातों में करता रहे


मोहब्बत तुझसे KI है तेरी आदतो से NHii…… DiL तुझे दिया है TERii झूठी बातो को नही


MOHBBT कर RHE थे पर तमाशा बन कर रह गए


मोहब्बत OR नौकरी में कोई फर्क NHii , इंसान करता रहेगा , रोता रहेगा …… पर छोड़ेगा NHii


Sad Whatsapp Status in Hindi For Whatsapp

PYAR हाथो में लगी मेहंदी Kii तरह होती HAI …. रचती है, खिलती HAI, और आखिर ME छूट जाती है


सीने Ki जगह आँखों में धड़कता है ये DiL, ये INTZAAR भी बड़ा अजीब Hota है


EK कोशिश भी NHi की उसने मुझे रोकने की ,SHAAYD उसे मेरे चले जाने का ही INTZAAR था


जब KOI किसी का साथ छोड़ता है तो USKi आंखें ही नहीं उसका Dil भी रोता है


HUME बेहाल देखकर UNKii हिम्मत ना हुई हमारा हाल पूछने की , OR उन्हें खुशहाल देखकर HMARii हिम्मत ना हुई APNA हाल बताने की


Sad Whatsapp Status in Hindi For facebook

MERii इच्छा उसको सिर्फ पाना नहीं , भगवान से दुआ है कि उसे कभी रुलाना नहीं


KITNA अधूरा लगता हूँ ME बिना तेरे…..जैसे रात अमावस Kii बिना चाँद के


ना तो मैं TUMHE खोना चाहती हूँ, ना ही KiSi और की होना चाहती हूँ


KiSi की याद से इतना भी BHi उदास ना हुआ करो , लोग नसीब SE मिलते हैं उदासियों से NHii



उसके पीछे रोने ka KYA फायदा , जिसने AAPKii सारी खुशियाँ ही छीन Liiii हो


काश MERE में रूह ना होकर TUm होते , जब तुम HUME छोड़ कर जाते , HUM मर जाते


बेहिसाब PYAR की , आखिरी मंज़िल बस EK क खामोशी 


Sad Hindi Whatsapp Status 

KUCH ज़ख्मों के कर्ज़ लफ़्हज़ों SE अदा नहीं होते


हमेशा इंसान Hii गलत नहीं होता , वक़्त BHii गलत हो सकता है


HUM तुम्हें किस्मत की लकीरों से BHii चुरा लेते… बस तुमने EK बार मेरे होने का दावा तो KIYA होता….


अगर TUMHARii बात का जवाब दे दिया , तो TUMHARA सवाल बुरा मान जाएगा


कहाँ ढूँढोगे TUM मुझ जैसा कोई जो TUMHARE ज़ुल्म भी सहे और तुमसे PYAR भी करे


मैं महफ़िल ME बैठूंगा ZARUR पर पियूँगा नहीं ,MERA दर्द मिटा सके शराब KI इतनी औकात नहीं


ना जाने TU कहाँ है पर AAJ भी, तेरी यादें HMARI आँखें नम कर जाती है..


हिचकियाँ आने पर AB ये वहम छोड़ दिया है MENE कि KOii याद कर रहा है


है क़ैद JO लब, लफ़्हज़ों पर तेरे जो पहरा है, KYU तू इतना चुप सा गुमसुम है,KYA ज़ख्म इतना गहरा है


अब KUCH नहीं कहूँगा मैं …… जब तक TUMHE मेरी कमी महसूस ना हो


TUMHARE बिना ZINDGii काट तो सकते हैं पर गुज़ार NHii सकते

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *